What is demand paging in hindi ?

Demand paging in hindi :-

  • Demand paging सिस्टम paging सिस्टम  और swapping का combination होती है।
  • Demand पेजिंग ,paging के सामान है होती है लेकिन इनमें मुख्य अंतर यह है कि इसमें किसी भी page को main मेमोरी में तब तक लोड नहीं किया जाता जब तक इसकी जरूरत न हो। जब भी किसी page को main मेमोरी में पहली बार refer किया जाता है तो वह page सेकंडरी मेमोरी में स्टोर रहता है।
  • Demand पेजिंग के पीछे मूल विचार यह है कि जब किसी प्रोसेस की swapping की जाती है तो उसके pages को एक बार में स्वैप  नहीं किया जाता बल्कि उन्हें तभी स्वैप किया जाता है जब प्रोसेस को उनकी जरूरत होती है , इसे lazy swapper कहा जाता है।
  • प्रारम्भ में केवल उन पेज को लोड किया जाता है जिन्हे तुरंत प्रोसेस जरुरत होती है।
  • हार्ड डिस्क या RAM से पेज को स्वैप करने के लिए  page टेबल का उपयोग करना पड़ता है, page टेबल का उपयोग page number और offset number को स्टोर करने के लिए किया जाता है।
Advantage of demand paging in hindi :-

इसके लाभ निम्न है:

  • बड़ी वर्चुअल मेमोरी।
  • Memory का अधिक कुशल उपयोग।
  • Multiprogramming की कोई सीमा नहीं होती है।
Disadvantage of demand paging in hindi :-

 इसके नुकसान निम्न है :

  • इसमें page fault की संभावना  होती है, पेज fault वह स्थिति होती है जब किसी पेज की जरूरत होती है तो वह पेज RAM में available नहीं होता है।

इस post को भी पढ़े : What is logical and physical address in hindi ?

Leave a Comment