hashing in dbms in hindi

hash file Organization Method वह है जहाँ data को data block पर stored किया जाता है जिसका पता hash function का use करके generated होता है। memory place जहाँ ये record store किए जाते हैं उन्हें data block या data bucket कहा जाता है। यह data bucket एक या अधिक record store करने में सक्षम है।

hash function address generate करने के लिए किसी भी column values का use कर सकता है। most of the time, hash function hash index बनाने के लिए primary key का use करता है – data block का पता। hash function किसी भी complex mathematical function के लिए simple mathematical function हो सकता है। हम primary key को भी data block के address के रूप में मान सकते हैं। इसका मतलब है कि प्रत्येक line को data block पर stored किया जाएगा जिसका पता primary key के समान होगा। इसका अर्थ है कि database में एक hash function कितना easy हो सकता है।

दो प्रकार के हैश फ़ाइल organizations हैं – static और dynamic hashing।

Static Hashing

hashing की इस method में, resultant data bucket address का address हमेशा एक जैसा रहेगा। इसका मतलब है, अगर हम mod (5) hash function का use करते हुए EMP_ID = 103 के लिए address genrate करना चाहते हैं, तो इसका परिणाम हमेशा एक ही bucket address में होता है। 3. यहाँ bucket address में कोई बदलाव नहीं होगा। इसलिए इस static hashing के लिए memory में data bucket की number पूरे समय constant रहती है।

Dynamic Hashing

इस hashing method का use static hashing – bucket overflow की समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। hashing की इस method में, data bucket grows or shrinks है क्योंकि record increases or decreases है। hashing की इस method को extendable hashing method के रूप में भी जाना जाता है।

Leave a Comment

Show Buttons
Hide Buttons