ER Model in Hindi

दोस्तों आज की इस post में हम जानेगे की What is ER Model in Hindi.

What is ER Model in Hindi

Entity Relationship Model किसी institute या business Group के data का Logical Representation होता हैं। एक E-R Model को आमतौर पर Entity Relationship diagram(या E-R चित्र) के रूप में व्‍यक्‍त किया जाता हैं। यह E-R model का Graphic presentation होता हैं। Entity Relationship Model real world (data) के नियमों पर आधारित होता हैं, जो basic objects के set जिन्‍हें entries कहते हैं और इन objects के बीच संबंधों से निर्मित होता हैं।

Elements of ER Model

इस chapter में हम E-R model के component elements का परिचय लेंगे और साथ में E-R daigram में उनका presentation भी देखेंगे। E-R मॉडल ERD’S का आधार बनाता हैं। ERD database का conceptual दर्शाता हैं। ERD’S तीन मुख्‍य घटक तत्‍व एंटिटी-एट्रीब्‍यूट और रिलेशनशिप दर्शाता हैं।

इस पोस्ट को भी पढ़े -: Database Languages in hindi

Entity

Entity real world में कोई person, place, object conceptual होती हैं, जो अन्‍य सारे objects से भिन्‍न होती हैं। entity में properties का set होता हैं और properties के कुछ set की value specific तरीके से entity की पहचान कर सकती हैं। entity, attributes के सेट से show जाती हैं। प्रत्‍येक attributes के लिए स्‍वीकार्य वैल्‍यूज का सेट होता हैं जिसे Domain या उस attribute का value set कहते हैं। इनमें से प्रत्‍येक प्रकार की एंटीटी के उदाहरण इस प्रकार हैं –

Person– Staff, Student etc.

Place– city, state, country.

objects – machine, building,

Event– sales, registration, renewable.

Entity Set

Entity set एक ही प्रकार की entity का सेट होता हैं। इन entity की property या attribute same होती हैं। कुछ उदाहरण इस प्रकार हैं –:

* किसी bank के ग्राहकों के  set। इसे entity set ‘customer’ के रूप में define किया जा सकता हैं।

* किसी bank विशेष द्वारा दिए गए सभी प्रकार के loan। इसे entity set loan के रूप में define किया जा सकता हैं।

entity के भी दो प्रकार होते हैं

  1. Strong Entity : strong entity set वह होता हैं जिनका अस्तित्‍व अन्‍य entity sets से स्‍वतंत्र होता हैं। दूसरे शब्‍दों में जिस entity set की primary key होती हैं, उसे strong entity set कहते हैं।
  2. Weak Entity) : weak entity वह होती हैं, जिसका अस्तित्‍व किसी अन्‍य entity set पर निर्भर करता हैं। दूसरे शब्‍दों में ऐसा entity set जिसके पास primary key बनाने के लिए पर्याप्‍त attribute नहीं हो उसे वीक एंटीटी सेट कहते हैं।

Attributes:

Attributes को entity की property या characteristics के रूप में define किया जा सकता हैं। प्रत्‍येक entity set में इसके साथ जुड़े attributes का set होता हैं। नीचे कुछ आम entity set इसके attributes के साथ दिये गए हैं –

Student – Student id Student name Address Phone no.

Employee – Employee id, Employee name, Designation, Brunch.

Account – Account no. Account type, Balance

ER model में उपयोग में लाए गये attributes को निम्‍न attribute type से चित्रित किया जा सकता हैं –

  1. Single और Composite एट्रीब्‍यूट्स :- एक single या atomic attributes वे होते हैं, जो छोटे subpart में नहीं तोड़े जा सकते हैं। उदाहरण के लिए, attribute student ID को subdivisions में नहीं divided किया जा सकता हैं। composite attribute वे होते हैं, जिन्‍हें और छोटे हिस्‍सों में बाँटा जा सकता हैं। उदाहरण के लिए attribute student name को तीन उपभागों में विभाजित किया जा सकता हैं। प्रथम name , middle name, last name।
  2. single value और multivalue attribute :- किसी attribute को single value attribute कहते हैं यदि इसमें केवल एक ही value हो सकती हैं। उदाहरण – एक account balance में एक बार में एक ही value हो सकती हैं। यह single attribute value का ही उदहारण हैं। किसी attribute को multivalue attribute तब कहते हैं जब इसमें एक से ज्‍यादा value संभव हो। उदाहरण के लिए एक entity student की कई multi value attribute हो सकती हैं, जैसे पढ़ना, संगीत सुनना, फिल्‍में देखना, आदि।
  3. Stored एवं Derive attribute – एक attribute जो किसी entity के लिए attribute के रूप में पहले से मौजूद हो वह stored या base attribute कहलाता हैं। ऐसा attribute जो किसी stored attribute से लिया जाता हैं, जो पहले से entity के लिए मौजूद नहीं हो, तो इसे derived attribute कहते हैं। इस प्रकार के attribute की value को अन्‍य संबंधित attribute या entity की value से निकाला जा सकता हैं। उदाहरण के तौर पर : किसी कर्मचारी के कार्यकाल की गणना entity इम्‍प्‍लाई के attribute joining date से की जा सकती हैं। यहाँ joining date stored या base attribute हैं। यह entity इम्‍प्‍लाई के attribute में से एक हैं और इम्‍प्‍लाईमेंट duration(कार्यकाल) derived attribute हैं क्‍योंकि इसे कर्मचारी के joining date attribute से निकाला गया हैं। इम्‍प्‍लायमेंट ड्यूरेशन entity इम्‍प्‍लाई का attribute नहीं हैं।
  4. Null Attribute :– ऐसा attribute जिसमें null value हो सकती हैं, null attribute कहलाता हैं। null value का उपयोग तब किया जाता हैं, जब entity के पास attribute के लिए value नहीं होती हैं। उदाहरण के लिए किसी entity इम्‍प्‍लाई के attribute phone number में value हो भी सकती हैं और नहीं भी हो सकती हैं। सभी कर्मचारियों के पास phone हो, यह जरूरी नहीं। यहाँ phone नंबर null attribute हैं।

Relation

Relation या table इन शब्‍दावलियों का उपयोग अदल-बदल कर किया जा सकता हैं। प्रत्‍येक रिलेशन, named columm हैं। relation की प्रत्‍येक रो उस record से संबंधित होती हैं, जिसमें single entity के लिए data attributes values होती हैं।

एक Relation में निम्‍न प्रापर्टीज होती हैं –

  1. किसी टेबल के किसी भी दिए हुए कॉलम में सभी आयटम समान प्रकार के होते हैं। जबकि भिन्‍न कॉलम में आयटम आवश्‍यक नहीं कि समान हो।
  2. रो के लिए, प्रत्‍येक कॉलम में एटामिक (अविभाज्‍य) वैल्‍यू होना चाहिए और रो के लिए ही, एक कॉलम में एक से ज्‍यादा वैल्‍यू नहीं हो सकती हैं।
  3. किसी रिलेशन की सभी रो विशिष्‍ट होती हैं। अर्थात् एक रिलेशन में ऐसी दो रो नहीं होती हैं, जो प्रत्‍येक कॉलम में समान हों। इसका मतलब हैं, रिलेशन की प्रत्‍येक रो इसके कंटेट से विशिष्‍ट रूप से आयडेंटीफाय की जा सकती हैं।
  4. किसी रिलेशन में रो के क्रम का कोई महत्‍व नहीं होता हैं। अर्थात् हम यह कहकर कुछ भी रिट्राईव नहीं कर सकते हैं कि रो नंबर 5 में कॉलम नेम एक्‍सेस किया जाता हैं। किसी रिलेशन में कोई ऑर्डर रो के लिए मेनटेन नहीं किया जा सकता हैं।
  5. किसी रिलेशन के कॉलम्‍स को विशिष्‍ट नाम असाइन किये जाते हैं। इन कॉलम्‍स के क्रम का कोई महत्‍व नहीं होता हैं।

इस पोस्ट को भी पढ़े -: Dbms keys in hindi

Relationships Set

Realationship कई entities के बीच साझेदारी होती हैं। Realationship वह गोंद हैं, जो E-R model के विभिन्‍न तत्‍वों को जोडे रखती हैं। Realationship set एक ही प्रकार के Realationship का set होता हैं। उदाहरण के लिए कोई भी bank customer द्वारा दिया जाने वाला किसी प्रकार का loan (business loan, personal loan, home loan) ले सकता हैं। इसलिए customer और उनके द्वारा लिए loan के बीच सारी Realationship कुल मिलाकर Realationship सेट कहलाएगी।

Degree of Relationship

Relationship की degree, entity times की वह संख्‍या हैं, जो relationship में भागीदार हैं। E-R model में तीन सबसे आम रिलेशनशिप हैं, unary(डिग्री 1) binary (डिग्री 2) और ternary (डिग्री 3)। इन तीनों relationship के उदाहरण चित्रो में नीचे दिए गए हैं –:

1.Unary Relationship:– Unary Relationship single entity type के instances के बीच Relationship होती हैं (unary Relationship को Recursive Relationship भी कहते हैं)। दो उदाहरण चित्र में दिए गए हैं। पहले उदाहरण में “IS-MARRIED-TO” को PERSON entity type के instances के बीच 1 to 1 Relationship के रूप में दिखाया गया हैं। दूसरे उदाहरण में “MANAGES” को EMPLOYEE entity type के instances के बीच 1 to 1 Relationship के रूप में दर्शाया गया हैं।

2. Binary Relationship:- बायनरी Relationship दो entity types के instances के बीच Relationship हैं और data modeling की यह सबसे आम प्रकार की Relationship हैं। daigram में तीन उदाहरण दिए गए हैं। पहला (1– to – 1) यह दर्शाता हैं कि एक employe को एक parking का स्‍थान assign किया गया हैं और प्रत्‍येक parking place एक कर्मचारी के नाम assign हैं। दूसरा (1 – to – many) यह बताता हैं कि product केवल एक product line से होता हैं। 3 (many to many) उदाहरण में यह बताया गया हैं कि Student एक से अधिक Syllabus में Resgistration करा सकते हैं और प्रत्‍येक Syllabus में कई student resgistration कराने वाले हो सकते हैं।

3.Ternary Relationship:– Ternary Relationship तीन entity types के instances के बीच Simultaneously(एक साथ) Relations हैं। daigram में business में ऐसी आदर्श स्थिति दर्शाई गई जो, ternary relationship का कारण बनती हैं। इस उदाहरण में वेंडर, warehouse को विभिन्‍न parts supplies कर सकते हैं। relationship supplies वे विशिष्‍ट parts records करती हैं, जो कई vendor विशेष द्वारा किसी खास warehouse को supplies किए जाते हैं। इस प्रकार वहाँ 3 3 entity type हो जाते हैं : vendor, part और warehouse। relationship supplies पर रो attribute हैं – SHIPPING MODE और UNIT-COST। उदाहरण के लिए सप्‍लाईज का एक इंस्‍टेंट यह फेक्‍ट रिकॉर्ड कर सकता हैं कि vendor X , part C warehouse , Y को शीप कर सकता हैं और यह कि shipping mode next day एयर हैं और लागत हैं प्रति यूनिट 5 रूपये।

1 thought on “ER Model in Hindi”

Leave a Comment

Show Buttons
Hide Buttons